RBI ने महंगाई को देखते हुए रेपो रेट में 0.50 रुपए की बढ़ोतरी की है जाने क्या है इसके मायने

भारत की सबसे बड़ी बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने शुक्रवार 5 अगस्त 2022 को एक अहम फैसला लेते हुए रेपो रेट में करीब 0.50 रुपए की बढ़ोतरी की है|


क्या है रेपो रेट में बढ़ोतरी का मामला जो सरकार ने इसी को चुना

भारत में लगातार महंगाई को बढ़ते देख सरकार को कुछ अहम फैसला लेना था जो कि जनता के पक्ष में हो और महंगाई को कम किया जा सके इसके लिए सरकार को सबसे अच्छा उपाय रेपो रेट में बढ़ोतरी करना लगा| पिछले कुछ हफ्तों से सरकार के ऊपर दबाव था कि वह महंगाई को नियंत्रित करने में असमर्थ है हालांकि इस पर सरकार का कहना यह है कि महंगाई बढ़ने की सबसे अहम वजह है वैश्विक घटनाएं जिसके कारण पूरे विश्व में महंगाई आसमान पर है हालांकि भारत में महंगाई बहुत कम है अगर पश्चिमी देशों की बात की जाए तो वहां हर चीज की कीमत आसमान को छू रही है मध्यम वर्ग के लोग किसी चीज को खरीदने से पहले 5 बार सोचने में ही अपना भला समझते हैं|

महंगाई बढ़ने के कारण

भारत में लगातार बढ़ती महंगाई के बहुत से कारण हैं पर इनमें मुख्यत है जो सबसे महत्वपूर्ण है जिनसे भारत की अर्थव्यवस्था पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है वह यह है कि वैश्विक स्तर पर जो घटनाएं हो रही है उनसे कई देश अपना सामान दूसरे देशों को निर्यात नहीं कर पा रहे हैं यही सबसे बड़ा कारण है जो पूरी दुनिया में महंगाई बढ़ने का कारण बना हुआ है|

रेपो रेट में बढ़ोतरी से क्या होगा | इसके क्या मायने हैं| और क्या होता है रेपो रेट? 

रेपो रेट सुनने में तो काफी आसान सा शब्द है परंतु इसके मायने बहुत अधिक है रेपो रेट मैं ₹1 की बढ़ोतरी भी या ₹1 भी घटाने पर अर्थव्यवस्था पर बहुत ही बड़ा फर्क पड़ता है इसका सीधा-सीधा अर्थ समझते हैं कि रेपो रेट क्या है ? 
रेपो रेट एक ऐसी इकाई है जिससे किसी भी ऋण का ब्याज बढ़ाया तथा घटाया जा सकता है | रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा बढ़ाए गए रेपो रेट से देश में महंगाई कम होगी क्योंकि इसका सीधा असर बैंकों द्वारा दिए गए लोन पर पड़ता है अब बैंकों में लोन पहले के मुकाबले थोड़ा महंगा मिलेगा इससे लोगों के हाथ में पैसा थोड़ा कम होगा जिसे वे खर्च नहीं करेंगे और अगर वह पैसे को खर्च नहीं करेंगे तो महंगाई अपने आप ही नियंत्रण में आ जाएगी|

Home page URL - The Article

Post a Comment

0 Comments